गुड़िया देवी ने अनुसंधान के क्षेत्र में रचा इतिहास,यूपी का नाम रोशन किया

गुड़िया देवी अनुसंधान के क्षेत्र में रचा इतिहास


उत्तर प्रदेश की एकमात्र महिला अविष्कारक गुड़िया देवी मूलतः सीतापुर की रहने वाली हैं जो काफी समय से लखनऊ के डालीगंज रेलवे कॉलोनी में रहती हैं पति गंगाराम रेलवे विभाग में तैनात हैं गुड़िया देवी ने खास बातचीत में बताया कि एक बार जब वह बीमार थी तो जो कठिनाइयों का सामना उन्हें करना पड़ा उस से प्रेरित होकर उन्होंने मरीजों के लिए एक अविष्कार करने की ठान ली और दिन-रात एक करके अंततः उन्होंने मेडिकल पेशेंट ड्रेस तैयार कर दिया खास बातचीत में बताया कि इसके पीछे पति गंगाराम जी का बहुत बड़ा योगदान है उन्होंने मेरे दुःख की अनुभूति की और भावना को समझते हुए अविष्कार करने में काफी मदद की ।
बताते चलें कि अभी पिछले कुछ दिनों पहले बांदा जनपद में कालिंजर महोत्सव के अवसर पर ज्ञानधारा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संचार में विशेष रूप से आमंत्रित थी वहां उन्होंने अपने अविष्कार से सबको आश्चर्यचकित कर दिया ।जिलाधिकारी ने उन्हें प्रशस्ति पत्र देते हुए उज्जवल भविष्य की कामना की बताते चलें कि काफी दिनों से सरकारी अस्पतालों में भर्ती मरीजों के लिए मेडिकल पेशेंट ड्रेस लागू कराने की मांग मां संतोषी महिला सेवा समिति लखनऊ ने की थी ।हमारे संवाददाता से श्रीमती गुड़िया देवी ने बताया कि पिछले काफी दिनों से सरकारी अस्पतालों में मेडिकल पेशेंट ड्रेस लागू करने के लिए मांग की जा रही है उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भी मिलकर उन्होंने बात की लेकिन सबका साथ सबका विकास का नारा देने वाली सरकार सिर्फ आश्वासन पर आश्वासन देती रही
ज्ञात हो कि उत्तर प्रदेश की पहली महिला अविष्कारक गुड़िया देवी जहां सीतापुर और लखनऊ का नाम रोशन कर रही हैं वहीं पूरे विश्व में उत्तर प्रदेश से प्रतिनिधित्व करते हुए भारत का नाम रोशन कर रही हैं गुड़िया देवी ने बताया कि मेडिकल पेशेंट ड्रेस खासतौर से महिला और पुरुष दोनों के लिए काटन से तैयार किया गया है दोनों पैरों में चैन युक्त पायजामा तैयार किया गया है साथ ही ऊपरी शर्ट में एक तरफ खोलकर दूसरी तरफ बंद कर दिया जाएगा।

इस ड्रेस को पहनने के बाद मरीजों की साफ-सफाई निडिल, बाथरूम में नली व शौच क्रिया एवं कपड़े बदलने में आसानी होगी ड्रेस को पेटेंट कराने के लिए दिल्ली में भी आवेदन कर चुकी हैं आवेदन को विचार के लिए सिलेक्ट कर लिया गया है अब देखना यह है कि कब तक इस ड्रेस को सरकार लागू करती है उत्तर प्रदेश की राजधानी में रहने वाली गुड़िया देवी ने इस ड्रेस को बनाने में दिन रात एक कर दिया उन्होंने बताया कि मुझे कई बार अस्पताल में भर्ती होना पड़ा और अस्पताल में मरीजों की दिक्कतों को देखते हुए मैंने इस ड्रेस का निर्माण किया महिला मरीज की कुर्ती में दोनों बांहों पर छुटपुटिया बटन लगे हुए हैं और यह कुर्ती चैन से जुड़ी है जिससे कि आसानी से ड्रेस को बदला जा सके ,पुरुषों के लिए कुर्ता और पायजामा डिजाइन किया गया है गुड़िया देवी अविष्कारक ही नहीं बल्कि बॉलीवुड की राइटर भी हैं।गुड़िया देवी का कहना है कि यदि सरकार इस ड्रेस को लागू कर दे तो हजारो महिलाओं को रोजगार मिलेगा।

INDIA POWER NEWS

Editor in Chief

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

मुबारकपुर मे प्रशासन एवं पत्रकारों को किया गया सम्मानित

Sun May 10 , 2020
मुबारकपुर मे प्रशासन एवं पत्रकारों को किया गया सम्मानित आजमगढ़ / मुबारकपुर में भारतीय मानवाधिकार एसोसिएशन , मानवाधिकार परिवार डॉक्टर राजेश कुमार त्रिपाठी के नेतृत्व में मुबारकपुर थाना परिसर में सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए प्रशासन एंव मीडिया के लोगों का सम्मान किया गया जिसमें थाना निरीक्षक अखिलेश कुमार […]

You May Like

%d bloggers like this: