रानी की सराय थाना प्रभारी रामायण सिंह के नेतृत्व मे पीस कमेटी की बैठक सम्पन्न हुई

रानी की सराय थाना प्रभारी रामायण सिंह के नेतृत्व मे पीस कमेटी की बैठक सम्पन्न हुई

आजमगढ़ / रानी की सराय थाना प्रभारी रामायण सिंह के नेतृत्व मे रानी की सराय थाना परिसर में माह अक्टूबर से दिसंबर 2020 तक आयोजित होने वाले प्रमुख त्योहारों दुर्गा पूजा, दशहरा बारा वफात दीपावली छठ पूजा कार्तिक पूर्णिमा को देखते हुए शांति कमेटी की बैठक बुलाई गई जिसमें जगह जगह प्रतिमा स्थापना, पूजा ,मेला, जागरण, सांस्कृतिक कार्यक्रम ,रैली ,जुलूस विसर्जन ,जैसी गतिविधियां संचालित होती हैं जिसमें भारी जनसमूह एकत्रित होने की संभावना रहती है ।ऐसे में कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार पर नियंत्रण के दृष्टिगत कार्यवाही सुनिश्चित की गई ।जैसे कंटेंटमेंट जोन में किसी भी आयोजन की अनुमति नहीं होगी ।शारीरिक दूरी के मानक तथा अन्य उपायों का प्रत्येक समय निरीक्षण किए जाने हेतु आयोजकों द्वारा मानव शक्ति तैनात किए जाएं तथा कोविड-19 कोरोना वायरस के नियमों का अनुपालन सुनिश्चित हो। आयोजकों को अपने समस्त स्टाफ के लिए मास्क,सैनिटाइजर, साबुन की पर्याप्त व्यवस्था की जाए ।थर्मल स्कैनिंग के लिए वालंटियर की तैनाती की जाए ।कार्यक्रम स्थल पर दर्शकों के प्रवेश और निकासी के अलग-अलग रास्ते बनाए जाएं। शारीरिक दूरी तथा मास्क पहनने के मानकों के लिए निगरानी में सीसीटीवी स्थापित की जाए ।मूर्तियों की स्थापना खाली स्थल पर ही की जाए तथा मूर्ति का आकार छोटा लगभग 4 फीट हो ।मैदान की क्षमता से अधिक लोग ना हो ,चौराहों तथा सड़कों पर कोई मूर्ति नहीं रखी जाएगी अन्यथा कोविड-19 कोरोना वायरस प्रोटोकॉल के अनुसार कार्यवाही सुनिश्चित की जाएगी ।मूर्ति विसर्जन में यथासंभव छोटे वाहन, ठेला आदि का ही प्रयोग किया जाए ।विसर्जन में केवल 5 व्यक्तियों की अनुमति होगी पर कोई ध्वनि विस्तारक यंत्र नहीं बजेगा ना तो कोई जुलूस निकाला जाएगा ।रामलीला बंद कमरे ,हाल जिसकी निर्धारित क्षमता 50% किंतु अधिकतम 200 व्यक्तियों तथा मास्क, सेनेटाइजर,हैंड वॉश के साथ आयोजन स्थल पर सार्वजनिक रूप से प्रचार-प्रसार हेतु पी ए सिस्टम का उपयोग किया जाए। मेला या प्रतिमा स्थापना एवं विसर्जन के लिए तथा रैली जुलूस के लिए जनपद के नोडल अधिकारी से अनुमति लेना होगा। इस मौके पर थाना प्रभारी रामायण सिंह ने बताया कि आगामी दुर्गा पूजा के मद्देनजर रानी की सराय तथा सभी गांव के प्रतिनिधियों को तथा मूर्ति कलाकारों को बुलाया गया तथा इस संदर्भ में जो प्रोटोकॉल जारी किया गया है मास्क, सैनिटाइजर तथा शारीरिक दूरी ,इसके तहत सभी को निर्देशित किया गया है की चौराहों या आम रास्तों पर मूर्ति की स्थापना नहीं होगी ।परंपरागत स्थान को वरीयता दी जाएगी यदि सार्वजनिक रास्ते या चौराहों पर है तो वैकल्पिक मैदान की व्यवस्था की जाए वहां मूर्ति स्थापना की अनुमति प्रतिबंधों के साथ दी जाएगी ।सभी मूर्ति निर्माता अपने यहां एक रजिस्टर बनाएं तथा जिस पूजा समिति को विक्रय करें नाम ,मोबाइल नंबर, पता सब विवरण अंकित करें ।मूर्ति विसर्जन उच्चतम न्यायालय के आदेशानुसार गड्ढा खोदकर उसमें मूर्ति विसर्जन किया जाए। नदी में कोई विसर्जन नहीं होगा ।इस मौके उपनिरीक्षक अनुपम जयसवाल, उपनिरीक्षक अरविंद कुमार यादव, उपनिरीक्षक संजय सिंह, कांस्टेबल दीपू सिंह, कांस्टेबल प्रवीण सिंह, कांस्टेबल रमेश कुमार कांस्टेबल मुंसी विवेक मौर्य, महिला कांस्टेबल भारती सिंह, महिला कांस्टेबल मीनू देवी, दिलीप जयसवाल, जय क्रान्ति गुप्ता,ग्राम प्रधान सुहेल अहमद पारस यादव, डाक्टर एम. प्रसाद रवि विश्वकर्मा, विशाल गुप्ता, शन्ता गुप्ता, राजू शर्मा आदि सभ्रांत लोग मौजूद रहे।

Virendra Kumar Saroj

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

पुस्तक मेला समितियों की आॅनलाइन गतिविधियां नवरात्र पर छाये कलश, वेदी, व्यंजन की रंग प्रतियोगिताओं का दूसरा चरण प्रारम्भ

Sun Oct 18 , 2020
पुस्तक मेला समितियों की आॅनलाइन गतिविधियां नवरात्र पर छाये कलश, वेदी, व्यंजन की रंग प्रतियोगिताओं का दूसरा चरण प्रारम्भ रिपोर्ट-एस पी रावत,एडिटर इन चीफ लखनऊ,। राष्ट्रीय पुस्तक मेला समिति और लखनऊ पुस्तक मेला समिति की ओर से संयुक्त रूप से प्रतियोगिताओं व संगोष्ठी इत्यादि की गतिविधियों का 27 अक्टूबर तक […]

You May Like

%d bloggers like this: